नमस्कार हमारे न्यूज पोर्टल - मे आपका स्वागत हैं ,यहाँ आपको हमेशा ताजा खबरों से रूबरू कराया जाएगा , खबर ओर विज्ञापन के लिए संपर्क करे +91-90050 72913 ,हमारे यूट्यूब चैनल को सबस्क्राइब करें, साथ मे हमारे फेसबुक को लाइक जरूर करें ,

समय पर समझ लें कोलेस्ट्रॉल बढ़ने के शुरुआती संकेत, समय पर नहीं किये ये 3 काम तो कभी भी आ सकता है हार्ट अटैक

1 min read

Early signs of High Cholesterol: LDA कोलेस्ट्रॉल को गंदा माना जाता है क्योंकि यही शरीर में असली परेशानी की जड़ है। इसका लेवल अधिक होने से आपको दिल के रोग, नसों की समस्या, हार्ट अटैक और स्ट्रोक जैसी गंभीर और जानलेवा बीमारियां हो सकती हैं।

शरीर में कोलेस्ट्रॉल (Cholesterol) बढ़ना एक गंभीर समस्या बनाता जा रहा है। यह एक गंदा पदार्थ है जो खून की नसों में जमा होता है। इसका लेवल अधिक होने से आपको दिल के रोग, नसों की समस्या, हार्ट अटैक और स्ट्रोक जैसी गंभीर और जानलेवा बीमारियां हो सकती हैं। आपको कैसे पता चलेगा कि आपका कोलेस्ट्रॉल लेवल बढ़ गया है? जानें.

कोलेस्ट्रॉल क्या है? यह वसा जैस या मोम जैसा पदार्थ है, जो शरीर में कोशिका झिल्ली, हार्मोन और विटामिन डी बनाने के लिए महत्वपूर्ण है। कोलेस्ट्रॉल दो तरह का होता है- एलडीएल कोलेस्ट्रॉल और एचडीएल कोलेस्ट्रॉल। एलडीएल कोलेस्ट्रॉल को गंदा माना जाता है क्योंकि यही शरीर में असली परेशानी की जड़ है जबकि एचडीएल कोलेस्ट्रॉल अच्छा होता है और शरीर के कई कामकाज में सहायक है।

कोलेस्ट्रॉल बढ़ने के लक्षण क्या हैं? ऐसा माना जाता है कि कोलेस्ट्रॉल बढ़ने के कोई पक्के लक्षण नहीं होते हैं। यही वजह है कि डॉक्टर हमेशा ब्लड टेस्ट कराने की सलाह देते हैं। हालांकि कुछ संकेत हैं जिनके जरिए आप जान सकते हैं कि आपके खून में गंदे कोलेस्ट्रॉल का लेवल बढ़ गया है।

कोलेस्ट्रॉल बढ़ने पर क्या समस्या उत्पन्न होती है?

Experts का मानना है?हाई कोलेस्ट्रॉल के लक्षण आमतौर पर तब तक दिखाई नहीं देते, जब तक कि यह किसी गंभीर समस्या का कारण नहीं बन जाता। यह जानने का एकमात्र तरीका है कि आप एलडीएल कोलेस्ट्रॉल का लेवल जाने के लिए ब्लड टेस्ट कराएं। कोलेस्ट्रॉल को अनुपचारित छोड़ने से समय के साथ यह नसों में जमा हो सकता है जिससे हृदय को नुकसान पहुंच सकता है और आपको दिल का दौरा या स्ट्रोक का खतरा हो सकता है।

इन सभी लक्षणों को गलती से भी न करें नजरअंदाज नहीं तो समस्या होना तय 

  • मन मचलाना
  • शरीर में किसी अंग का सुन्न होना
  • अत्यधिक थकान होना
  • सीने में दर्द
  • सांस लेने में कठिनाई
  • हाथ-पांव में सुन्नपन या ठंडक लगना
  • हाई ब्लड प्रेशर रहना

लक्षण दिखाई देने पर क्या करें

यदि आपको ऊपर बताए कोई भी संकेत या लक्षण महसूस हो रहे हैं, तो आपको तुरंत डॉक्टर से मिलना चाहिए और जांच करानी चाहिए। ध्यान रहे कि ब्लड टेस्ट के जरिए ही यह पता चल सकता है कि आपके भीतर कुछ गंभीर समस्या तो नही हो रही है।

बिना टेस्ट कैसे पता चलेगा कि आपका कोलेस्ट्रॉल कितना बढ़ गया

समस्या यह है कि हाई कोलेस्ट्रॉल के बारे में तब तक सही तरह पता नहीं चल पाता, जब तक शरीर में कोई गंभीर समस्या नहीं हो जाती है। डॉक्टरों का माना है कि आपको 11 साल की उम्र के बाद से 55 साल की उम्र तक हर पांच साल में ब्लड लिपिड टेस्ट कराना चाहिए।

45 साल के बाद हर साल टेस्ट जरूरी है

नेशनल हार्ट लंग एंड ब्लड इंस्टीट्यूट ने सलाह दी है कि पुरुषों को 45 से 65 और महिलाओं को 55 से 64 की उम्र के बीच हर एक से दो साल में ब्लड टेस्ट कराना चाहिए। यदि आप 65 वर्ष से अधिक आयु के हैं, तो हर साल कोलेस्ट्रॉल की जांच कराएं।

 

डिस्क्लेमर: यह लेख केवल सामान्य जानकारी के लिए है। यह किसी भी तरह से किसी दवा या इलाज का विकल्प नहीं हो सकता। ज्यादा जानकारी के लिए हमेशा अपने डॉक्टर से संपर्क करें। किसी भी तरह के इलाज से पूर्व अपने चिकित्सक से परामर्श जरूर करें
50% LikesVS
50% Dislikes

More Stories

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed

| Newsphere by AF themes.