hindusthanlive

यूरोपीय नेता सतत विकास के लिए एकजुट हुए |


डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। मॉस्को में 10 फरवरी को वेरोना यूरेशियन इकोनॉमिक फोरम का विजिटिंग सेशन आयोजित हुआ। इस सत्र के जरिए यूरोपीय नेता महाद्वीप के देशों के बीच सतत (दीर्घकालिक) और अभिनव विकास (इनोवेटिव डेवलपमेंट) में सहयोग पर चर्चा करने के लिए एक साथ जुड़े। इस दौरान वेरोना विशेषज्ञों ने कार्बन तटस्थता की खोज और यूरेशियन महाद्वीप की ऊर्जा सुरक्षा के बीच संतुलन बनाए रखने की तात्कालिकता व्यक्त की।

ऊर्जा रूस और यूरोपीय संघ (ईयू) के बीच अंतर्राष्ट्रीय आर्थिक सहयोग के प्रमुख क्षेत्रों में से एक है। यह क्षेत्र और भी महत्वपूर्ण हो गया है, क्योंकि जलवायु परिवर्तन से निपटने के लिए वैश्विक प्रयास जारी है। एक विश्वसनीय और टिकाऊ भविष्य की गारंटी के लिए एनर्जी ट्रांसिशन में बहुपक्षीय संयुक्त कार्य आवश्यक है। ऊर्जा सुरक्षा के लिए खतरों के बीच, मंच के प्रतिभागियों ने एनर्जी ट्रांसिशन और प्रतिबंधों के दबाव पर प्रकाश डाला।

कोनोसेरे यूरेशिया एसोसिएशन के अध्यक्ष, बंका इंटेसा के निदेशक मंडल के अध्यक्ष एंटोनियो फॉलिको ने कहा, हम प्रतिबंधों के पैटर्न का सामना कर रहे हैं, जो गलत सूचना अभियानों और व्यापारिक युद्धों (ट्रेड वॉर) से निकटता से जुड़ा हुआ है। अब यह स्पष्ट है कि आधिकारिक बयानबाजी के विपरीत, इस उपकरण का उद्देश्य घोषित राजनीतिक परिणाम प्राप्त करना नहीं है, बल्कि प्रतिस्पर्धी के रूप में देखे जाने वाले देशों के आर्थिक और सामाजिक विकास को रोकना है। यूरोपीय और इतालवी कंपनियों के लिए, यह एक चिंताजनक कारक (फैक्टर) है, जो आर्थिक और सामाजिक विकास की संभावना को कमजोर करता है, जो सभी पार्टियों के लिए फायदेमंद है।

सत्र के दौरान, प्रतिभागियों ने संयुक्त योजनाओं और ऊर्जा, पर्यावरण और सामाजिक बुनियादी ढांचे के विकास के प्रति प्रतिबद्धता को रेखांकित किया। रूसी और इतालवी विशेषज्ञों ने एनर्जी ट्रांसिशन के नवीनतम रुझानों और प्रमुख मुद्दों पर चर्चा की। पारंपरिक और नवीकरणीय ऊर्जा, हरित हाइड्रोजन उत्पादन और सुरक्षित परमाणु ऊर्जा के लिए नवीन प्रौद्योगिकियां (इनोवेटिव टेक्नोलॉजी) आर्थिक और व्यापार सहयोग के केंद्रीय विषयों में से एक थीं और इसने व्यावसायिक कूटनीति के संवाद (डिस्कोर्स ऑफ बिजनेस डिप्लोमेसी) को आकार दिया।

रूस की सबसे बड़ी तेल कंपनी रोसनेफ्ट, जो सक्रिय रूप से वोस्तोक ऑयल विकसित करती है और जो दुनिया की सबसे आशाजनक कम कार्बन परियोजनाओं (लो-कार्बन प्रोजेक्ट्स) में से एक है, के पहले उपाध्यक्ष डिडिएर कासिमिरो ने भी इस पर टिप्पणी की। तेल कंपनी रोसनेफ्ट विश्व में अन्य प्रमुख तेल परियोजनाओं की तुलना में 75 प्रतिशत कम कार्बन उत्सर्जित करती है। रोसनेफ्ट के पहले उपाध्यक्ष डिडिएर कासिमिरो ने कहा, व्यावसायिक कूटनीति और रूसी और यूरोपीय कंपनियों के बीच व्यापारिक संबंधों के विस्तार और सु²ढीकरण में यूरेशिया के सतत विकास में एक निर्धारण कारक होने की क्षमता है।

 

 (आईएएनएस)

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.

विज्ञापन

Latest News

Today Weather

INDIA WEATHER